प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना 2021 : PMGKAY, PM garib kalyan anna yojana in Hindi.

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना का आरंभ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा अप्रैल 2020 में किया गया था. यह योजना पीएम गरीब कल्याण योजना का ही हिस्सा है. कोरोना संक्रमण की वजह से पुरे देश में लॉकडाउन हुआ था इसी बात को ध्यान में रखते हुए प्रधानमंत्री ने garib kalyan anna yojana की शुरुवात की थी.

इस योजना के तहत देश के 80 करोड़ से अधिक नागरिकों को PMGKAY के तहत मुफ्त राशन दिया जायेगा. 7 जून 2021 को प्रधानमंत्री ने देश को सम्बोधित करते हुए इस योजना की जानकारी भी दी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने कहा पीएम गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत देश के सभी गरीब वर्ग के नागरिकों को दिवाली तक मुफ्त राशन दिया जायेगा. इसके अलावा राशन कार्ड धारक नवंबर तक 5 किलो अतिरिक्त अनाज मुफ्त में प्राप्त कर सकते है.

आज के इस लेख में हम आपको PM garib kalyan ann yojana से सम्बंधित संपूर्ण जानकारी हिंदी में प्रदान करने वाले है. इस योजना के तहत कोनसे लोग लाभ ले सकते है, इस योजना के लाभ, पात्रता, उद्देश्य आदि की संपूर्ण जानकारी इस लेख में उपलब्ध है.

PM gramin awas yojana


प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना 2021

प्रधान मंत्री गरीब कल्याण योजना का आरंभ कोरोना संक्रमण की वजह पुरे देश में लॉकडाउन होने के कारन देश के गरीब वर्ग के नागरिकों को मुफ्त राशन प्रदान करने के लिए इस योजना का आरंभ किया गया था. पहले लॉकडाउन के समय देश के लाभार्थियों को 8 महीने सरकार द्वारा मुफ्त राशन दिया गया था.

कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर आने के कारन पुरे देश में फिरसे लॉकडाउन लग गया था, इसी बात को ध्यान में रखते हुए सरकार द्वारा PMGKAY 2021 के तहत नवंबर तक मुफ्त राशन प्रदान करने का एलान किया गया. इस योजना के तहत एफसीआई डिपो से 63.67 लाख मैट्रिक टन से अधिक खाद्यान्न लिया गया है. PM Garib Ann yojana के तहत देश के आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के नागरिक जैसे सड़क पर रहने वाले, कूड़ा उठाने वाले, फेरी वाले, रिक्शा चालक, प्रवासी मजदूर आदि को प्राथमिकता दी जाएगी.

PMGAY full form क्या है?

PMGAY का full form होता है “Pradhanmantri Garib Kalyan Anna Yojana


पीएम गरीब कल्याण अन्न योजना, संक्षिप्त विवरण

योजना प्रधान मंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना
किसके द्वारा आरंभ हुई पी.एम नरेंद्र मोदी
योजना आरंभ की तिथि अप्रैल 2020
योजना का प्रकार केंद्र सरकार की योजना
उद्देश देश के गरीब वर्गीय नागरिकों को मुफ्त राशन प्रदान करना.
लाभार्थी देश के 80 करोड़ से अधिक नागरिक

Pradhanmantri Garib Kalyan Ann Yojana 2.0

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना 2.0 की शुरुवात सोमवार दिनांक 7 जून 2021 को देश को सम्बोधित करते हुए नरेंद्र मोदी जी ने इस योजना का ऐलान किया था. इस योजना के तहत देश के राशन कार्ड धारको को मई और जून महीने में 5 किलो (चावल/गेहू) अनाज अतिरिक्त प्राप्त होगा इसकी भी जानकारी प्रधानमंत्री द्वारा दी गयी है.

गरीब कल्याण अन्न योजना का लाभ देश के 80 करोड़ से अधिक राशन कार्ड धारको प्राप्त होगा. इस योजना के तहत मई और जून महीने में 80 करोड़ से अधिक राशन कार्ड धारको को प्रत्येक परिवार के व्यक्ति के लिए 5 किलो अनाज (गेहू/चावल) प्राप्त होगा. यदि एक परिवार में 4 लोग है और 4 लोगो के लिए अतिरिक्त 20 किलो अनाज प्राप्त होगा.

MGNREGA Job card list


Garib kalyan anna yojna के लाभ

इस योजना के देश के लाभार्थियों को क्या लाभ प्राप्त हो सकते है इससे सम्बंधित जानकारी हिंदी में निचे उपलब्ध है.

  • गरीब कल्याण अन्न योजना का लाभ देश के 80 करोड़ से अधिक गरीब वर्गीय नागरिक प्राप्त कर सकते है.
  • इस योजना के तहत मई और जून में लाभार्थियों को 5 किलो अतिरिक्त अनाज भी दिया जायेगा.
  • गेहू, चावल, तेल, चीनी आदि राशन इस योजना के तहत मुफ्त में दिया जायेगा.
  • इस योजना के तहत मिलने वाले मुफ्त राशन दिवाली तक सभी नागरिको को प्राप्त होंगे.
  • देश के आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के नागरिक जैसे सड़क पर रहने वाले, कूड़ा उठाने वाले, फेरी वाले, रिक्शा चालक, प्रवासी मजदूर आदि को इस योजना के तहत प्राथमिकता दी जाएगी.

PMGKAY 2021 का मुख्य उद्देश्य

पीएम गरीब कल्याण अन्न योजना को अप्रैल 2020 में शुरुवात की गयी थी, जब पहली बार देश में कोनो संक्रमण की वजह से लॉकडाउन लगाया गया था. इस बात को ध्यान में रखते हुए गरीब वर्गीय लोगो के लिए इस योजना के तहत मुफ्त राशन बाटने का निर्णय लिया गया. 8 महीने 80 करोड़ से अधिक लाभार्थियों को इस योजना का लाभ प्राप्त हुआ.

7 जून 2021 को प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा इस योजना की तिथि और बधाई गयी इस योजना के तहत अब नवंबर तक लाभार्थियों को लाभ प्राप्त होगा. इसमें सरकार का मुख्य उद्देश्य है कमोजर वर्ग के नागरिको को राशन मुफ्त मिले लॉक डाउन के कारन उन लोगो की आय बंद होने के कारन यह फैसला लिया गया है.


प्रधान मंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के लिए पात्रता

  • गरीबी रेखा के निचे जीवन यापन करने वाले संबंधित परिवार – अन्तोदय अन्न योजना और प्राथमिकता श्रेणियों वाले घरों इस योजना के लिए पात्र होंगे.
  • उनके द्वारा विकसित मानदंड के अनुसार राज्य सरकारों / संघ शासित प्रदेश प्रशासन द्वारा पीएचएच की पहचान की जानी चाहिए. केंद्र सरकार द्वारा निर्धारित मानदंडों के अनुसार राज्यों / केंद्रशासित प्रदेशों द्वारा अन्तोदय अन्न योजना (AAY) परिवारों की पहचान की जानी चाहिए.
  • विधवाओं या अंतिम रूप से बीमार व्यक्तियों या विकलांग व्यक्तियों या 60 वर्ष या उससे अधिक आयु के लोगों का नेतृत्व निर्वाह या सामाजिक समर्थन का कोई आश्वासन नहीं दिया गया.
  • विधवा या अंतिम रूप से बीमार व्यक्ति या विकलांग व्यक्तियों या 60 वर्ष या उससे अधिक या एकल महिला या एकल पुरुष या एकल पुरुष जिनमें कोई परिवार या सामाजिक समर्थन या असिस्टेंस का आश्वासन नहीं है. सभी आदिम जनजातीय परिवार.
  • भूमिहीन कृषि मजदूर, सीमांत किसान, ग्रामीण कारीगरों / शिल्पकार, बुनकर, लोहार, बढ़ई, झोपड़ियां, और कूलियों, रिक्शा खींचने वालों, हाथों के कार्ट खींचने वाले अनौपचारिक क्षेत्र में दैनिक आधार पर अपनी आजीविका कमाते हुए व्यक्ति, फल और फूल विक्रेता, सांप चार्मर, रैग पिकर, कोबब्लर्स, निराशाजनक और ग्रामीण और शहरी दोनों क्षेत्रों में अन्य समान श्रेणियां.

FAQ

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना क्या है?

इस योजना के तहत देश के गरीब वर्ग के नागरिको को मुफ्त अनाज प्रदान किया जाता है. 80 करोड़ से अधिक देश के नागरिक इस योजना का लाभ प्राप्त कर सकते है.

गरीब कल्याण अन्न योजना का शुरुवात कब हुई थी?

देश में पहला लॉकडाउन लगने के बादअप्रैल 2020 में इस योजना की शुरुवात की गयी थी.

इस साल 2021 में PMGAY का क्या लाभ मिलेगा?

गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत देश के लाभार्थियों को 5 किलो अनाज अतिरिक्त दिया जायेगा.

पीएम गरीब कल्याण अन्न योजना का मुख्य उद्देश्य क्या है?

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना का मुख्य उद्देश्य है देश के कमजोर वर्ग के नागरिको को मुफ्त में अनाज प्रदान करना.


This Post Has One Comment

  1. ashwani sharma

    na rashan hai husband be nahe hai can u help me ak doughter hai 12 years ke

Leave a Reply